शाहजहाॅपुर लोकसभा चुनाव क्या होगा यू टर्न

By: Red Alert Bureau
Mar 29, 2019

मुझसे प्यार हो जाता, प्रत्याशियों का घाटा हो जाता

=2014 के लोकसभा चुनाव में नोटा बटन दबाने वाले थे 9964 वोटर

=नोटा से आठ प्रत्याशी पिछड़ गए थे, 2014 में नोटा का छठा नंबर था

=नोटा ने अभी हाल के चुनावों में कई प्रदेशों में सरकारें तक नहीं बनने दीं

शाहजहांपुर। मैं नोटा हूं। सात-आठ साल पहले ही मेरा जन्म हुआ है। शुरू में तो लोग मुझे समझ नहीं पाए। पर जैसे जैसे लोगों ने मुझे जानना और पहचानना शुरू किया तो मैं एक के बाद एक चुनाव में बाहुबली होता चला गया। वोटर जब किसी प्रत्याशी को पसंद नहीं करता है, तब मैं ही ईवीएम में सबसे नीचे मिलता हूं। मजबूरी में ही सही, लेकिन मैं भी कुछ लोगों की पसंद बनता हूं। जानते हैं कि शाहजहांपुर में 2014 के लोकसभा चुनाव में मैंने आठ प्रत्याशियों को चित कर दिया था। यह बात अलग है कि मैं पांच प्रत्याशियों से हार भी गया था।

कुछ वोटरों को मुझसे यानी नोटा से प्यार हो जाता है, उनका कुछ नहीं जाता है, पर प्रत्याशियों का घाटा हो जाता। जानते हैं जब मेरा वजूद नहीं था, तब मेरे हिस्से के वोट खामखां ही दूसरे प्रत्याशियों को लोग दे दिया करते थे। पर मैं लोगों के गुस्से से पनपा नोटा हूं। जब लोग चुनाव मैदान में खड़े प्रत्याशियों से नाराज हो जाते हैं तो उनका गुस्सा रुपी वोट मेरे खाते में आता है। 2014 के लोकसभा चुनाव में शाहजहांपुर के 9 हजार 964 लोगों ने गुस्से में मुझे ईवीएम में दबाया था। वोटर हमसे गुस्सा नहीं थे, गुस्सा तो वोटर उन प्रत्याशियों से थे जो उनके मापदंड पर खरे नहीं उतर रहे थे। जानते हैं 2014 के लोकसभा चुनाव में शाहजहांपुर सीट से कुल 14 लोग चुनाव लड़े थे। उसमें से मैंने यानी नोटा ने वीआईपी के प्रत्याशी राजकुमार गौतम, निर्दलीय राकेश, रोशनलाल कनौजिया, मेवाराम, आप की रीता भारती, बीएमयूपी के रामलाल, लोकदल के कृष्णलाल, बीकेआरडी के राममूर्ति को हराया था। पर मैं यानी नोटा भाजपा की कृष्णाराज, बसपा के उम्मेद सिंह, सपा के मिथलेश कुमार, कांग्रेस के चेतराम, पीस पार्टी की सुनीता नागपाल से हार गया था। 

---------------

2017 विधानसभा चुनाव में और ताकतवर हुआ नोटा

=ददरौल में नोटा को 2383 वोट मिले थे। कुल दस प्रत्याशी थे। छह प्रत्याशियों को नोटा ने हराया, चार प्रत्याशियों से नोटा हारा। पांचवें नंबर पर रहा था नोटा।

=तिलहर में नोटा को 1683 वोट मिले थे। कुल 14 प्रत्याशी थे। नौ प्रत्याशियों को नोटा ने हराया, पांच प्रत्याशियों से नोटा हारा। छठे नंबर पर रहा था नोटा।

=जलालाबाद में नोटा को 1614 वोट मिले थे। कुल 10 प्रत्याशी थे। सात प्रत्याशियों को नोटा ने हराया, तीन प्रत्याशियों से नोटा हारा, चौथे नंबर पर रहा था नोटा।

=सदर में नोटा को 1151 वोट मिले थे। कुल 13 प्रत्याशी थे। नौ प्रत्याशियों को नोटा ने हराया, चार प्रत्याशियों से नोटा हारा, पांचवें नंबर पर रहा था नोटा।

=पुवायां में नोटा को 2069 वोट मिले थे। कुल 11 प्रत्याशी थे। आठ प्रत्याशियों को नोटा ने हराया, चार प्रत्याशियों से नोटा हारा, चौथे नंबर पर रहा था नोटा।

=कटरा में नोटा को 1830 वोट मिले थे। कुल 13 प्रत्याशी थे। 10 प्रत्याशियों को नोटा ने हराया, तीन प्रत्याशियों से नोटा हारा, चौथे नंबर पर रहा था नोटा।




Sponsors

Subscribe To News Letter