फेसबुक के जरिये केजीएमयू की प्रोफेसर से ठगे सवा करोड़

By: Red Alert Bureau
Jun 16, 2019

फेसबुक के जरिये केजीएमयू की प्रोफेसर से ठगे सवा करोड़
लखनऊ। केजीएमयू की एक महिला प्रोफेसर से साइबर जालसाजों ने एक करोड़ 12 लाख रुपये ठग लिए। प्रोफसर के पति केजीएमयू में ही प्रशासनिक पद पर तैनात हैं। जालसाजों ने फेसबुक के जरिये जाल बिछाकर डॉक्टर को झांसे में लिया था। एसटीएफ ने एक नाइजीरियन समेत दो लोगों को गिरफ्तार किया है।
एसटीएफ के मुताबिक, छह जून को महिला डॉक्टर ने साइबर थाने में ठगी की एफआइआर दर्ज कराई थी। छानबीन में पता चला कि महिला डॉक्टर समाजसेवा के लिए लगाए गए हेल्थ कैंप की फोटो फेसबुक पर अपलोड करती रहती थीं। फेसबुक के जरिये उनकी जान पहचान इंग्लैंड निवासी कथित कार्डियोलॉजिस्ट डाॅ. स्टीव जॉर्ज से हुई थी। बातचीत के दौरान डॉ. स्टीव ने जनसहयोग का झांसा दिया। इसके बाद उसने ग्रेट ब्रिटेन की मुद्रा पाउंड व कुछ विदेशी सामान दिल्ली भेजने की बात कही। आरोपित ने पाउंड और सामान दिल्ली एयरपोर्ट पर कस्टम में फंसने का झांसा दिया तथा उसे छुड़ाने के नाम पर ढाई लाख रुपये ठग लिए।
जालसाजों को पहली बार ढाई लाख रुपये देने के बाद डॉक्टर ठगों की साजिश में फंसती चली गईं। एसटीएफ का कहना है कि ठगों ने पीड़िता से चार माह में कुल 26 अलग-अलग खातों में लाखों रुपये स्थानांतरित करवाए। सूत्रों के मुताबिक ठगों के चक्रव्यूह में फंसी महिला डॉक्टर ने करीब 87 लाख रुपये बैंक से लोन भी लिया था, जिसे उन्होंने जालसाजों के हवाले कर दिया। ठग उन्हें बड़ी रकम भेजने का झांसा देकर लगातार रकम वसूलते चले गए।
एसटीएफ ने नाइजीरियन ठग की पैरवी में लखनऊ आए उसके साथी साउथ मणिपुर के हांगवीग कसुमकुलेन उखरुल निवासी होर्मी केसी को चारबाग से दबोच लिया। आरोपित के साथ तीन अन्य लोग भी थे, जो भाग निकले। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि वह तथा उसका भाई केसिंग उंगमयो पकड़े गए नाइजीरियन के साथ मिलकर लोगों को भ्रमित कर ऑनलाइन ठगी करते थे।
एसएसपी एसटीएफ के मुताबिक छानबीन में नाइजीरिया के ईमो स्टेट उरू वेस्ट निवासी अमरा चुकबू रोलैंड का नाम सामने आया। इसके बाद एसटीएफ की लखनऊ और नोएडा की संयुक्त टीम ने आरोपित को नई दिल्ली के मोहनगार्डेन रमा पार्क टी प्वाइंट आर 50 ग्राउंड से दबोच लिया गया। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि वह डॉ. जॉर्ज व कई अन्य नामों से लोगों से संपर्क करता था। आरोपित ने वाट्सएप, फेसबुक व सोशल मीडिया के अन्य प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर महिला डॉक्टर के अलावा अन्य लोगों से करीब 70 करोड़ रुपये ठगे हैं। ठगी की रकम आरोपित विभिन्न देशों में अपने साथियों, पत्नी व रिश्तेदारों को स्थानांतरित कर देता था। नाइजीरियन ठग के गिरोह में पूवरेत्तर राज्यों के कई लोग शामिल हैं, जो रुपये ट्रांसफर करने का काम करते हैं।

 




Sponsors

Subscribe To News Letter